1. Home
  2. Dharam

Ganesha Chaturthi 2023: गणेश चतुर्थी पर ऐसे करें गणेश जी की पूजा, वास्तु दोष से मिलेगा छुटकारा

Ganesha Chaturthi 2023: गणेश चतुर्थी पर ऐसे करें गणेश जी की पूजा, वास्तु दोष से मिलेगा छुटकारा
भगवान गणेश के प्रत्येक स्वरूप की विशेष पूजा से सभी प्रकार के शुभ फल प्राप्त होते हैं। हालाँकि, सिंधुर गणेश की पूजा उन लोगों के लिए फायदेमंद है जो सभी धन चाहते हैं।

गणेश सनातन धर्म में त्रिदेवों में प्रमुख देवता हैं। गणेश जी सभी के पूजनीय प्रथम देव माने जाते हैं। किसी भी शुभ कार्य या शुभ त्यौहार में सबसे पहले भगवान गणेश की पूजा की जाती है। गणेश को विघ्न का राजा और संहारक भी माना जाता है।

माना जाता है कि गणेश जी की स्तुति का जाप जीवन में सुख, समृद्धि और लाभ लाता है। लेकिन अगर पूजा या मूर्ति स्थापना के तरीके में गलती हो जाए तो गणेश जी हमसे नाराज हो सकते हैं।

इसलिए व्यक्ति को सिद्धि के स्वामी गजानन का उपयोग करते समय बहुत सावधान रहना चाहिए। तो आइए देखें वास्तु दोषों से मुक्ति के लिए कैसे करें भगवान गणेश की पूजा।

किस रंग के गणेश जी की पूजा करनी चाहिए?

भगवान गणेश के प्रत्येक स्वरूप की विशेष पूजा से सभी प्रकार के शुभ फल प्राप्त होते हैं। हालाँकि, सिंधुर गणेश की पूजा उन लोगों के लिए फायदेमंद है जो सभी धन चाहते हैं। जीवन में सुख, शांति और समृद्धि लाने के लिए सफेद गणेश प्रतिमा की पूजा करनी चाहिए।

इनकी तस्वीर हमेशा दरवाजे पर रखनी चाहिए। कला के क्षेत्र में प्रसिद्धि के लिए घर में नाट्य गणेश की मूर्ति रखनी चाहिए और उसकी पूजा करनी चाहिए। बैठी हुई मुद्रा में गणेश जी की मूर्ति जीवन में सुख-समृद्धि प्रदान करती है।

गणेश प्रतिमा में धड़ किस तरफ होना चाहिए, क्या है महत्व

आमतौर पर गणेश प्रतिमा में उनका धड़ दाईं या बाईं ओर झुका हुआ होता है। इन दोनों रूपों का ग्रंथों में अलग-अलग अर्थ है। घर में हमेशा बाईं ओर मुड़े हुए सिर वाली गणेश जी की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए।

दायीं ओर मुड़ी हुई सूंड वाले गणेश जी को मंदिर में स्थापित करना चाहिए।

कार्यस्थल पर ऐसी होनी चाहिए गणेश प्रतिमा

ऑफिस या संस्थानों में गणेश प्रतिमा स्थापित करने के नियम हैं। कार्यस्थल पर हमेशा भगवान गणेश की मूर्ति रखनी चाहिए। याद रखें कि खड़े हुए गणेश जी की मूर्ति के दोनों पैर जमीन को छूने चाहिए।

यह कार्यस्थल को हमेशा जीवंत और ताज़ा रखता है। कार्यस्थल पर गणेश जी की मूर्ति का मुख दक्षिण दिशा या नैऋत्य कोण में नहीं होना चाहिए।

जिन घरों में वास्तु दोष दूर करने के लिए

भगवान गणेश की विशेष कृपा होती है , वहां कभी भी नकारात्मक ऊर्जा नहीं रहती। घर के वास्तु दोषों को दूर करने के लिए गणेश जी की मूर्ति हमेशा कारगर मानी जाती है। घर के मुख्य द्वार पर एकाकी मूर्ति या प्रतिमा रखने से वास्तु दोषों का निवारण होता है।

मुख्य द्वार की कमियों को दूर करना

यदि घर के मुख्य द्वार से संबंधित कोई वास्तु दोष हो जैसे भवन के दरवाजे के सामने पेड़, मंदिर, खंभा और सड़क। इस वास्तु दोष को द्वार्वेद दोष कहा जाता है। इस दोष से छुटकारा पाने के लिए मुख्य द्वार पर विराजमान भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए।

जिन लोगों की कुंडली में ग्रह दोष खराब हैं उनके लिए भगवान गणपति की पूजा करना बहुत फलदायी होता है। स्वस्तिक चिन्ह को भगवान गणेश का स्वरूप माना जाता है।

स्वास्तिक दोषों को दूर करने के लिए वास्तु शास्त्र उपयोगी है। इसके अलावा ग्रह शांति के लिए दीवार पर घी मिश्रित सिन्दूर से स्वस्तिक चिन्ह बनाना चाहिए।


देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें पाने के लिए अब आप HaryanaNewsPost के Google News पेज और Twitter पेज से जुड़ें और फॉलो करें।