1. Home
  2. Cricket

IND vs AUS: अहमदाबाद टेस्ट में शानदार शतक लगाने के बाद बोले विराट, कहा टीम के लिए बड़ा स्कोर नहीं कर पाना मुझे खा रहा था

IND vs AUS: अहमदाबाद टेस्ट में शानदार शतक लगाने के बाद बोले विराट, कहा टीम के लिए बड़ा स्कोर नहीं कर पाना मुझे खा रहा था

Border-Gavaskar Trophy: विराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट में अपने शतक के सूखे को समाप्त करते हुए अहमदाबाद टेस्ट में अपना 75वां अंतरराष्ट्रीय शतक और टेस्ट में 28वां शतक लगाया। नवंबर 2019 के बाद टेस्ट में यह उनका पहला शतक था। उन्होंने 364 गेंदों में 186 रन बनाए, जिसमें 15 चौके शामिल थे।


IND vs AUS: अहमदाबाद में बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के चौथे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने मैराथन शतक के बाद भारत के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली ने कहा कि टीम के लिए एक बड़ा स्कोर नहीं बना पाने से उन्हें कुछ हद तक परेशानी हो रही थी।

लेकिन अब वें खुशी से विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल और विश्व कप 2023 में प्रवेश करेंगें। ट्रैविस हेड और मार्नस लाबुशेन के अर्धशतकों की मदद से ऑस्ट्रेलिया ने सोमवार को अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में भारत के खिलाफ चल रहे बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी का चौथा और अंतिम टेस्ट ड्रा कराया।

भारत ने आईसीसी विश्व चैंपियनशिप के फाइनल के लिए क्वालीफाई कर लिया है, जहां वे 7 जून से लंदन के 'द ओवल' स्टेडियम में ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेंगे। क्राइस्टचर्च में न्यूजीलैंड द्वारा श्रीलंका को पहले टेस्ट में हराने के बाद भारत ने डब्ल्यूटीसी फाइनल के लिए क्वालीफाई किया। 

फॉर्म में लौटे विराट कोहली 

विराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट में अपने शतक के सूखे को समाप्त करते हुए अहमदाबाद टेस्ट में अपना 75वां अंतरराष्ट्रीय शतक और टेस्ट में 28वां शतक लगाया। नवंबर 2019 के बाद टेस्ट में यह उनका पहला शतक था।

उन्होंने 364 गेंदों में 186 रन बनाए, जिसमें 15 चौके शामिल थे। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शानदार शतकीय पारी खेलने के बाद विराट ने कहा कि मैंने अपनी कमियों की वजह से खुद पर कुछ जटिलताएं बढ़ने दी थीं।

एक बल्लेबाज के रूप में आप पर उस तीन अंक का अंक पाने की बेचैनी बढ़ सकती है और मैंने कुछ हद तक अपने साथ ऐसा होने दिया। मैं वह व्यक्ति नहीं हूं जो इससे खुश है। 40-45 रन बनाने के बाद इसे एक बड़ी पारी में बदलना जरूरी है।

बड़ी पारी न खेल पाना मुझे कुछ समय के लिए खा रहा था। टीम के लिए एक बड़ा स्कोर नहीं बना पाने से मुझे परेशान होना पड़ा। ऐसा करने में सक्षम होना आपको बहुत संतुष्टि देता है। मैं डब्ल्यूटीसी फाइनल में आराम से जाऊंगा।

द्रविड़ ने भी लिया विराट की पारी का आनंद 

मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने भी स्वीकार किया कि वह मुख्य कोच के रूप में विराट को टेस्ट शतक बनाते देखने के लिए बेताब थे ताकि ड्रेसिंग रूम से इसका आनंद ले सकें। द्रविड़ ने विराट से इस बारे में भी बात करने को कहा कि उन्होंने अपनी पारी को कैसे अप्रोच किया।

विराट ने कहा कि उन्हें पता था कि वह सीरीज में अच्छा खेल रहे हैं और विकेट बल्लेबाजी के लिए अच्छा है। हालांकि ऑस्ट्रेलिया ने फील्डिंग से हमारे ऊपर कुछ दबाव जरूर बनाया। लेकिन हमने उससे अच्छी तरह अपना बचाव किया।

जहां तक इस पारी की बात है तो मुझे पता था कि मैं इससे पहले के टेस्ट मैचों में भी अच्छा खेल रहा था। यह बल्लेबाजी के लिए अच्छा विकेट था। अपने बचाव पर भरोसा करना और धैर्य रखना। यह वह खाका है जिसके साथ मैंने हमेशा टेस्ट में खेला है।

धैर्य से बल्लेबाजी मेरा सबसे मजबूत बिंदु है। जब मैं धैर्य से बल्लेबाजी करता हूं तो मुझे पता है कि जब भी हिट करने और रन बनाने के लिए कोई लूज बॉल होती है तो मैं उसका फायदा उठा सकता हूं। 


देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें पाने के लिए अब आप HaryanaNewsPost के Google News पेज और Twitter पेज से जुड़ें और फॉलो करें।